छत्तीसगढ़राजनीति
Trending

CG Assembly Election 2023: इस सीट पर निर्दलीय उम्मीदवार बिगाड़ेंगे भाजपा कांग्रेस का खेल, बढ़ सकती है पार्टी की मुश्किलें

दोनों पार्टियों को नुकसान होने वाला है

WhatsApp Group Join Now
Telegram Channel Join Now

(CG Assembly Election 2023) रायगढ़ विधानसभा सीट में इस बार भाजपा और कांग्रेस दोनों की राह आसान नहीं होने वाली। ऐसा इसलिए क्योंकि पहली बार इस विधानसभा सीट में रिकॉर्ड तोड़ 23 प्रत्याशी चुनावी मैदान में उतरे हैं। भाजपा कांग्रेस के अलावा जनता कांग्रेस, आम आदमी पार्टी और निर्दलीय प्रत्याशियों के रूप में भी बड़े चेहरे हैं। ऐसे में वोटों का विभाजन होना तय है जिसका सीधा-सीधा नुकसान भाजपा और कांग्रेस को होगा।

विधानसभा चुनाव की तारीख जैसे-जैसे करीब आ रही है रायगढ़ विधानसभा सीट में सियासी पारा गर्म होने लगा है। इस विधानसभा सीट में भाजपा और कांग्रेस के बीच कांटे की टक्कर है। ऐसा इसलिए क्योंकि इस सीट पर कई ऐसे चेहरे हैं जो वोटों का समीकरण बिगाड़ने वाले हैं। इस सीट पर जहां कांग्रेस ने प्रकाश नायक को चुनावी मैदान में उतारा है तो वहीं भाजपा से कद्दावर नेता ओपी चौधरी चुनावी मैदान में हैं।

इसके अलावा जनता कांग्रेस जोगी ने पूर्व महापौर और किन्नर मधु भाई को टिकट दी है। इधर आम आदमी पार्टी ने अग्रवाल समाज के कैंडिडेट गोपाल बापोडिया को चुनावी मैदान में उतारा है। अग्रवाल समाज से ही शंकर लाल अग्रवाल कांग्रेस से बगावत कर चुनावी मैदान में उतरे हैं, जबकि कोलता समाज की कैंडिडेट गोपिका गुप्ता बीजेपी से बगावत कर चुनावी समर में कूद पड़ी हैं।

रायगढ़ सीट पर अग्रवाल समाज के लगभग 22000 और कोलता समाज के 35000 वोटर हैं। इन दोनों समाज से निर्दलीय कैंडिडेट के चुनावी मैदान में उतरने के बाद वोटों का बंटवारा होना तय है। जानकारों का कहना है कि गोपिका गुप्ता कोलता समाज के अलावा भाजपा के वोटों का विभाजन करेगी, जबकि नीडल कैंडिडेट शंकर लाल अग्रवाल कांग्रेस का और आम आदमी पार्टी के गोपाल बापोडिया अग्रवाल समाज के वोट काटेंगे। किन्नर प्रत्याशी मधु बाई भले ही जीतने की स्थिति में ना हो लेकिन कहीं ना कहीं वह भी शहरी वोटों पर सेंध लगाएंगी। ऐसे में सीट पर दोनों पार्टियों को नुकसान होने वाला है।

इधर भाजपा और कांग्रेस भी इस बात को स्वीकार कर रही हैं कि प्रत्याशियों की संख्या अधिक होने से वोटों का विभाजन होगा। हालांकि भाजपा का कहना है कि भाजपा के अगेंस्ट जितने भी प्रत्याशी चुनावी मैदान में उतरे हैं वे ओपी चौधरी के चेहरे और बीजेपी के घोषणा पत्र के आगे बौने हैं। भाजपा के वादों का असर इस चुनाव में होगा और जनता भाजपा के पक्ष में मतदान करेगी। इधर कांग्रेस भी सीट पर जीत को लेकर आश्वस्त है। कांग्रेस का कहना है कि पार्टी के खिलाफ बगावत करने वालों पर प्रदेश संगठन कार्रवाई की तैयारी में है। लोगों ने राज्य सरकार के 5 सालों के कामकाज को बखूबी देखा है कांग्रेस सरकार की घोषणाओं का असर भी इस चुनाव में होगा और जनता कांग्रेस को चुनेगी।

विज्ञापन

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button