छत्तीसगढ़मध्यप्रदेशराजनीतिराजस्थान

चुनावी राज्यों में 1,760 करोड़ से अधिक की नगदी और वस्तुएं जब्त, पिछले चुनाव से 7 गुना ज्यादा है आंकड़ा

पांच राज्यों में चुनावो की घोषणा होने के बाद निगरानी दल ने 1,760 करोड़ रुपए से अधिक की जब्ती की गई है।

Advertisement
WhatsApp Group Join Now
Telegram Channel Join Now

छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश, राजस्थान, तेलंगाना और मिजोरम में विधानसभा चुनाव की घोषणा होने के बाद से ही निगरानी दल एक्टिव हो गया था। मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और मिजोरम में चुनाव संपन्न हो चुके है। वहीं, राजस्थान और तेलंगाना में मतदान होना अभी बाकी है। इस दौरान निगरानी दल ने 1,760 करोड़ रुपए से अधिक की जब्ती की गई है।

निर्वाचन आयोग की मानें तो यह जब्ती पिछली बार के विधानसभा चुनाव में की गई जब्ती से 7 गुना (239.15 करोड़ रुपए) से अधिक है। आयोग ने सोमवार को कहा कि पांच राज्यों में मतदाताओं को लुभाने के मकसद से 1,760 करोड़ रुपए से अधिक की मुफ्त वस्तुएं, ड्रग्स, नकदी, शराब और कीमती धातुएं ले जाई जा रही थीं जिन्हें जब्त कर लिया गया।

निर्वाचन आयोग ने बताया कि 9 अक्टूबर को चुनावों की घोषणा के बाद से पांच राज्यों छत्तीसगढ़, राजस्थान, तेलंगाना, मध्य प्रदेश और मिजोरम में की गई उक्त जब्ती 2018 में पिछले विधानसभा चुनावों की तुलना में सात गुना (239.15 करोड़ रुपए) से ज्यादा है। आयोग ने बताया कि मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और मिजोरम में विधानसभा चुनाव पहले ही हो चुके हैं जबकि राजस्थान और तेलंगाना में क्रमशः 25 नवंबर और 30 नवंबर को मतदान होना है।

निर्वाचन आयोग की ओर से साझा की गई जानकारी के मुताबिक, 9 अक्टूबर को चुनावों की घोषणा के बाद से छत्तीसगढ़ में 20.77 करोड़ रुपए का कैश, 2.16 करोड़ रुपए की शराब, 4.55 करोड़ रुपये की ड्रग्स, 22.76 करोड़ रुपए की कीमती धातुएं, 26.68 करोड़ रुपए के गिफ्ट बरामद किए हैं। छत्तीसगढ़ में कुल 76.9 करोड़ रुपए की जब्ती की गई है।

निर्वाचन आयोग के मुताबिक, मध्य प्रदेश में कुल 323.7 करोड़ रुपए की जब्ती की गई है जिसमें 33.72 करोड़ रुपए का कैश, 69.85 करोड़ रुपये की शराब, 15.53 करोड़ रुपए की ड्रग्स, 84.1 करोड़ रुपये की कीमती धातुएं, 120.53 करोड़ रुपए के गिफ्ट बरामद किए हैं। सबसे ज्यादा 659.2 करोड़ रुपए की बरामदगी तेलंगाना से की गई है।

Advertisement

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button