दिल्ली

Madhur Sugars के रॉबिन हुड आर्मी के साथ सहयोग ने 1000 चेहरों पर लाई मुस्कान

विज्ञापन
WhatsApp Group Join Now
Telegram Channel Join Now

दिल्ली(Madhur Sugars) भारत के प्रमुख पैकेज्ड शुगर ब्रांडमधुर शुगर ने समाज के सभी वर्गों के बीच दिवाली के उत्सव की भावना को जगाने के लिए मधुर उत्सव‘ की शुरुआत की है। इस तरह की पहली स्वयंसेवी-आधारित पहल हाल ही में दिल्ली में 13 स्थानों पर रॉबिन हुड आर्मी के सहयोग से आयोजित की गई।

विज्ञापन

मधुर शुगर की टीम ने अपने कार्यकारी निदेशक श्री रवि गुप्ता के नेतृत्व मेंरॉबिन हुड आर्मी (आरएचए) के साथ मिलकर एक हज़ार घरों में राशन किट के साथ-साथ त्योहार की मिठाइयां भी बांटींजिससे उनकी दिवाली वाक़ई यादगार बन गई। लोकप्रिय फूड व्लॉगर गौरव वासन की भागीदारी से इस पहल को और बढ़ावा मिलाजिन्होंने स्वेच्छा से इस अभियान का हिस्सा बनने के लिए मधुर कैप्टन‘ के रूप में काम किया।

इस संयुक्त प्रयास ने 13 स्थानों पर लगभग 80-90 समर्पित आरएचए स्वयंसेवकों और 100 से अधिक मधुर कैप्टन को एकजुट कियाऔर सामूहिक रूप से इस त्योहारी मौसम में लगभग 1,000 चेहरों पर मुस्कान ला दी। यह एक बार में एक जीवन और एक मुस्कान के लिए मधुरता‘ फैलाने की मधुर शुगर की यात्रा की शुरुआत है।

मधुर शुगर के कार्यकारी निदेशक, रवि गुप्ता ने अपना आभार व्यक्त करते हुए कहा, “इतने सारे लोगों के चेहरों पर मुस्कान देखना अभिभूत करने वाला क्षण था। मधुर शुगर में हम अपने चारों ओर मिठास फैलाने में विश्वास करते हैं। मधुर उत्सव उसी दिशा में एक कदम है। हम मधुर कैप्टन बनने के लिए स्वयंसेवकों को आमंत्रित करने की एक अनूठी अवधारणा पर काम कर रहे हैंजो इस मिशन के प्रमुख तत्व होंगे। हम इस पहल को पूरे देश में पूरे साल जारी रखना चाहते हैं।

इस अभियान का प्राथमिक उद्देश्य था, लोगों को इस उदार गतिविधि में भाग लेने के लिए प्रोत्साहित करना। लोगों ने ज़बरदस्त प्रतिक्रिया दिखाई, वे सभी वंचित लोगों के जीवन में मिठास लाने के लिए बड़ी संख्या में सामने आए।

मधुर शुगर2007 में अपने लॉन्च के बाद से उपभोक्ताओं को स्वच्छता से पैक की गई चीनी को अपनाने की खूबियों के बारे में लगातार शिक्षित करने के लिए मशहूर रहा है। यह ब्रांड 95% भारतीय परिवारों के साथ जुड़ा हुआ हैजो खुली चीनी खरीदते हैं। ब्रांड उन्हें पैकेट वाली चीनी खरीदने के गुणों के बारे में जागरूक करता है।

विज्ञापन

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button